Press "Like" to follow us

कैसे बनाएँ अपना पर्सनल स्टाइल

क्या आप जानती हैं? जब आप किसी नए इंसान से मिलती हैं तो बिना आपसे बातें किए,बिना आपको जाने,वह शुरुआती कुछ पलों में ही आपके बारे में एक राय बना लेता है।सिर्फ़ आपके हुलिए को देख कर।सिर्फ़ यह देख कर कि आपकी वेश भूषा या पहनावा कैसा है।सुनने में यह बात अजीब लगती है,पर है सोलह आने सच।तो क्यों ना हम दुनिया पर अपनी जीत की तैयारी शुरू करें अपने ड्रेसिंग रूम से ही।

ऊपर जो लिखा है,इसका ये मतलब क़तई नहीं है कि हमें फ़ैशन की अंधा धुँध नक़ल करनी है या उस पर ढेर सारे पैसे उड़ाने हैं।इसका मतलब सिर्फ़ इतना है कि हमें अपना एक personal style develop करना है,जो हमारे व्यक्तित्व को उभारे और हमें एक अनूठे और ख़ास व्यक्तित्व का मालिक बनाए।इस रास्ते पर पहला क़दम बढ़ाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है,पर इसके लिए fashionshala आपके साथ है।तो आइए जानें -क्या करें कि विकसित कर सकें अपना personal style –

1-अपने आप को जानिए

यहाँ बात है अपने ख़ास स्टाइल की,इसलिए सबसे पहले आपको अपने आप को समझना और जानना होगा।इसके लिए कुछ प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

  • आपकी जीवनशैली कैसी है?
  • आपके शरीर का क्या आकार क्या है?
  • आपकी उम्र क्या है?
  • आप किस तरह का काम करती हैं?
  • आपको कौन से रंग भाते हैं?
  • आपको कैसे कपड़े पसंद हैं?

इन सभी प्रश्नों के उत्तर ज़रूरी हैं क्योंकि एक शिक्षिका और एक बूटीक की मालकिन का स्टाइल एक नहीं हो सकता।एक पहाड़ों और एक समुद्र के पास रहने वाली का स्टाइल एक नहीं हो सकता।इसी तरह एक टीन एजर और एक चालीस के आस पास की महिला पर अलग तरह के कपड़े खिलेंगे।

इसलिए आप अपने से जुड़े सभी पहलुओं को अच्छी तरह समझ कर यह शुरुआत करें।सफ़र आसान होगा।

2-आपको किसका स्टाइल पसंद है?

फ़ैशन मैगज़ीन या इंटर्नेट पर तस्वीरों में देखें कि आपको किसका स्टाइल आकर्षित करता है।अपने आस पास के लोगों पर भी नज़र दौड़ाएँ।क्या कोई ऐसा है,जिसको देख कर आपको ऐसा महसूस होता है कि आप भी उनकी तरह दिखतीं तो आपको ख़ुशी होती।ऐसे लोगों की छोटी छोटी बातों पर ध्यान दें और उसे अपनाने की कोशिश करें।यहाँ आपका लक्ष्य उनकी नक़ल करना नहीं बल्कि सिर्फ़ उससे प्रेरणा लेना है।आपको सिर्फ़ उनसे इतना समझना है कि आपको कैसा स्टाइल पसंद है।

3- अपनी अलमारियाँ खँगालें

जब भी आप अपनी अलमारी खोलती हैं,वो कपड़ों से ठसा ठस ही दिखती है,फिर भी हर दिन का यही रोना कि क्या पहनूँ।ये समस्या सिर्फ़ आपकी नहीं,शायद नब्बे प्रतिशत लोगों की है।शायद इसलिए कि कपड़े ख़रीदने में तो हम कभी नहीं सोचते,पर उन्हें हटाने में हज़ार बार सोचते हैं।यह जींस चुस्त है?पर अभी तो मैंने डाइयटिंग शुरू की है,साइज़ फ़िट आने लगेगा।इस ब्लाउज की बाँह फ़ैशन से छोटी है?पर उस फ़िल्म में तो हीरोईन ने ऐसा ही पहना था,अब इसका ही फ़ैशन आने वाला है।यह साड़ी पुरानी हो गई,पर बुआ ने कितने प्यार से दी थी।वग़ैरा -वग़ैरा।

पर विश्वास करें,आप वो पुरानी जींस,छोटी कुर्ती,सिन्थेटिक साड़ी फिर कभी पहनने वाली नहीं।तो एक दिन जी कड़ा करें और पिछले एक साल में जो सामान भी आपने इस्तेमाल नहीं किया है,उसे निकाल कर दान कर दें।पाने वाले का भी भला होगा और आपका भी।

अपना पर्सनल स्टाइल डिवेलप करने के पहले यह काम ज़रूर करें।

4- बनें स्मार्ट शॉपर

अगर आपको अपना पर्सनल स्टाइल विकसित करना है तो शॉपिंग करते वक़्त स्मार्ट बनें।वो ना ख़रीदें जो हर दुकान पर बिक रहा है या आपके विश्वासी दुकानदार के हिसाब से दीपिका,कटरीना या आलिया ने पहना था,वो ख़रीदें जो आपके स्टाइल को सूट करता हो।ज़रूरी नहीं कि कपड़े हमेशा महँगे हों,तभी भले दिखेंगे।मिक्स एंड मैच से बहुत कम ख़र्च करके भी आप ख़ास लुक दे सकती हैं।पसंदीदा दुकानों के सेल पर भी नज़र रखें।आधे दामों में पूरी पसंद के कपड़े मिलेंगे।लेकिन शॉपिंग जाने से पहले एक लिस्ट ज़रूर बना लें कि आपको अभी किस तरह के कपड़ों या accessory की ज़रूरत है।एक सिम्पल ड्रेस भी अच्छे बैग या शूज़,उम्दा स्टोल के साथ ख़ास लगती है।यह सब प्लान करके शॉपिंग करने निकलें।

5-सही साइज़ पहनें

Source

जब भी हम शॉपिंग करने जाते हैं,हमारी तमन्ना होती है कम साइज़ के कपड़ों में फ़िट आने की।कई बार यह मनोवृति हास्यास्पद हो जाती है।ख़ुद पर भरोसा रखें और छोटी नहीं सही साइज़ के कपड़े पहनें।किसी को फ़र्क़ नहीं पड़ता कि आप साइज़ स्मॉल हैं या एक्स्ट्रा लार्ज। जब आप अपने हिसाब से अच्छी दिखेंगी तो आपमें एक आत्मविश्वास जागेगा,आपका बॉडी पॉस्चर सही होगा,आप ज़्यादा मुस्कुराएँगी और लोग आपको ज़्यादा नोटिस करेंगे।

6- Accessory पर ध्यान दें

ऐक्सेसरी आपके लुक को विशेष रूप देने का सबसे आसान तरीक़ा है।स्कार्फ़,स्टोल,झुमके,bracelets,मोती की माला,हीरे के बुंदे,बड़ी अँगूठी,स्टाइलिश बूट्स,ये सब सही तरीक़े से इस्तेमाल करके आप अपना एक विशेष स्टाइल डिवेलप कर सकती हैं।

7- अपने दिल की सुनें

अपना स्टाइल चाहिए तो अपने दिल की सुनें।कोई भी फ़ैशन मैगज़ीन या स्टाइलिश या बूटीक आपको वो नहीं बताएगा जो आप चाहती हैं।आपका स्टाइल ऐसा होना चाहिए जो आपके लिए ख़ास हो,जिसमें आप कम्फ़्टर्बल के साथ साथ ख़ूबसूरत महसूस करें।कपड़ा कितना भी महँगा या फ़ैशनबल क्यों ना हो अगर आपको पसंद नहीं आता तो वह आपकी अलमारी की शोभा ही बढ़ाएगा।दुकानदार की बातों में ना आएँ कि आज कल यही फ़ैशन है या यह ड्रेस आपको कितना सूट कर रही है।शीशे और अपने मन की आवाज़ सुनें।फ़ैशन ऐसा हो जो आपके व्यक्तित्व,काम और अनूठेपन को सामने लाए।विश्वास रखें,ख़ूबसूरती के लिए आत्मविश्वास से ज़्यादा महत्वपूर्ण साथी और कोई नहीं।इसलिए हमेशा अपने मन की आवाज़ सुने -किसी भी मौक़े के लिए तैयार होने से पहले।

Read More

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *